Progeny

Female
24-09-1972
16.31.30
Mumbai
संतान विषयक पर इस कुंडली पर मेरा विश्लेषण इस प्रकार है
Tip..केतु जब भी 5वें भाव में शुभ प्रभाव में होगा, शादी के एक साल के भीतर संतान होगी
5th csl सूर्य अपने ही नक्षत्र और शुक्र के उप में है ..शुक्र 2 का sbl है यानी संतान सुख का प्रॉमिस बहुत बढ़िया है,
सूर्य अंतर चंद्र में संतान हुई
सूर्य का बता चुके हैं
चंद्र देखें, चन्द्र बुध के नक्षत्र और राहु के उप में है
चन्द्र राहु दोनों positional status में हैं, चन्द्र 2 में और राहु 11 में विराजमान हैं
एक और बात देखें…बुध भी positional status में है और 8 में बैठा है पर राहु 11 में बैठ कर उसके प्रभाव जो खत्म कर रहा है और संतान उत्पति बिना किसी चीर फाड़ के, नार्मल डिलीवरी हुई….; ये तो clear है कि पहली संतान लड़का होगी और लड़का ही हुआ..
दूसरी संतान…देखें भाव 7वां
7वां csl शुक्र 6 में बैठा है और 10 का sbl है…Miscarriage ho gaya
उसके बाद इस जातिका ने कभी भी conceive नहीं किया, इसको हेल्थ प्रॉब्लम आ गयी थी…अभी इसने पूछा है कि वो अभी भी संतान की इच्छुक है और risk लेना चाह रही है….आपका क्या ख्याल है…बताएं…

Leave a Reply